गुरु नानक देव के 10 अनमोल विचार

Guru Nanak Jayanti

गुरु नानक जयंती 2019 यह पर्व सिख धर्म का पवित्र पर्व है और गुरु नानक सिख धर्म के संस्थापक है, इनका जन्म राय-भोई-दी तलवंडी मे हुआ था l उस स्थान को ननकाना साहिब कहा जाता है l इनका जन्म ननकाना साहिब में 1469 मे हुआ था जो पाकिस्तान मे है इनके पिता का नाम मेहता कालु और माता तृप्ता देवी और इनकी एक बहन थी जिसका नाम नानकी था l

गुरु नानक जी के दो बेटे थे जिनका नाम श्रीचंद और लख्मीदास था इनकी पत्नी जिनका नाम सुल्लखणी था जो बटाला की रहने वाली थी l गुरु नानक जी बचपन से ही बहुत गंभीर स्वभाव के और रूढ़िवादिता का विरोध करते थे l ये सिख धर्म के संस्थापक भी है l

गुरु नानक के 10 विचार

  • कभी भी किसी का हक, नहीं छीनना चाहिए.
  • सिर्फ और सिर्फ वही बोले जो शब्द आपको सम्मानित करते है.
  • जगत का कर्ता सब जगह और सब प्राणी मात्रा में मौजूद है.
  • उसकी चमक से सबकुछ प्रकाशमान है.
  • ये पूरी दुनिया कठिनाइयों में है वह जिसे खुद पर भरोसा है वही विजेता कहलाता है.
  • कर्म भूमि पर फल के लिए श्रम सबको करना पड़ता है, रब केवल लकीर देता है हमको तो रंग भरना होता है.
  • दूब की तरह छोटे बने रहो, जब घास-पात जल जाते है फिर भी दूब जस की तस रहता है.
  •  अहंकार द्वारा ही मानवता खत्म होता है, अहंकार कभी नही करना चाहिए बल्कि हृदय मे सेवा भाव रखकर जीवन जीना चाहिए.
  • पैसे को जेब में ही रखें उसे हृदय तक मत अपने दें, जब धन को हृदय में स्थान दिया जाता है तो सुख शांति के जगह लालच, भेदभाव और बुराइयों का जन्म होता है l
  • जब शरीर गंदा हो जाता है तो हम पानी से साफ कर लेते है उसी प्रकार जब हमारा मन गंदा हो जाए तो उसे ईश्वर के जाप और प्रेम द्वारा ही साफ किया जा सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here